बिहार में दिहाड़ी मजदुर को मिला 37.5 लाख का इनकम टैक्स नोटिस, रोज की कमाई 500 रुपए

Araria News
Income Tax Department Sent Notice Of Rs 37 Lakh To Laborer
बिहार में दिहाड़ी मजदुर को मिला 37.5 लाख का इनकम टैक्स नोटिस, रोज की कमाई 500 रुपए

बिहार के खगड़िया से बड़ा ही हैरान करने वाला मामला सामने आया है। जिले के अलौली प्रखंड के मघौना गांव के रहने वाले एक दिहाड़ी मजदूर को सेंट्रल जीएसटी डिपार्ट्मन्ट की तरफ से भुगतान करने का नोटिस भेजा गया है।

प्रतिदिन मजदूरी कर 500 रुपये कमाने वाले मजदूर गिरीश यादव को सेंट्रल जीएसटी डिपार्ट्मन्ट की तरफ से 37.50 लाख रुपये का बकाया जमा कराने के लिए डाक से नोटिस भेजा गया है। नोटिस मिलने के बाद मजदूर सहित उसका पूरा परिवार सदमे में है।

Farmer got 37 and a half lakh notice
किसान को मिला साढ़े 37 लाख का नोटिस

37.50 लाख रुपये बकाया टैक्स का नोटिस

प्राप्त जानकारी के अनुसार मजदूर गिरीश यादव दिहाड़ी मजदूरी कर अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। अब उसे सेंट्रल जीएसटी डिपार्ट्मन्ट का नोटिस मिला है जिसमें बताया गया है की गिरीश यादव ने नाम पर 37.50 लाख रुपये टैक्स का बकाया है जो की उसे भरना होगा।

Farmer Girish Yadav
किसान गिरीश यादव

प्राप्त नोटिस में यह भी लिखा गया है की गिरीश ने राजस्थान में एक कंपनी खोल रखी है जिसके जरिए वो कारोबार करते हैं। गिरीश के पैन नंबर पर चालीस लाख रुपया बकाया है जिसे लेकर उन्हें नोटिस भेजा गया है।

पीड़ित कभी नहीं गया राजस्थान

GST Department handed over notice of Rs 37.50 lakh
जीएसटी विभाग ने 37.50 लाख रुपया का नोटिस थमा दिया

वहीं इस मामले में मजदूर गिरीश का कहना है की वो कभी भी राजस्थान नहीं गया। गिरीश ने इस मामले को लेकर स्थानीय थाने में गुहार लगाई है। वहीं यह खबर जैसे ही गांव के लोगो को पता चली तो सभी लोग गिरीश यादव के घर पहुंचने लगे। झोंपड़ी में रहने वाले गिरीश यादव किसी तरह से मजदूरी कर घर परिवार को चला रहे है।

जांच कर रही पुलिस

इस मामले में स्थानीय थाना प्रभारी ने बताया की शिकायत के आधार पर हमने मामला दर्ज कर लिया है। उन्होंने बताया की इस मामले में पुलिस द्वारा जांच शुरू कर दी गई है। थाना प्रभारी पुरेन्द्र कुमार ने बताया की शिकायतकर्ता के नाम से जारी पैन नंबर पर नोटिस मिला है। पीड़ित गिरीश ने पुलिस को बताया की उसने दिल्ली में काम करने के दौरान एक दलाल के जरिए पैन कार्ड बनवाने की कोशिश की थी। जो उसे फिर कभी नहीं मिला।

 

perfection ias bpsc toppers
प्रमोटेड कंटेंट

Share This Article