बिहार के सरकारी विद्यालयों में बच्चों को किताबें मिली नहीं, लेकिन परीक्षा का शेड्यूल हो गया जारी

Araria News
students have not got books in government schools of bihar but exam schedule released
बिहार के सरकारी विद्यालयों में बच्चों को किताबें मिली नहीं, लेकिन परीक्षा का शेड्यूल हो गया जारी

बिहार के सरकारी विद्यालयों में पढऩे वाले स्कूली बच्चे का भविष्य कागजी प्रक्रिया में उलझ कर रह गया है। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के दावों के बीच अब भी बच्चे बिना पुस्तक भविष्य संवारने को विवश हैं।

कक्षा एक से आठ तक के छात्रों को पुस्तक क्रय करने के लिए सरकार की ओर से राशि दी जाती है। बिहार के भागलपुर जिला के चार लाख बच्चों को शैक्षणिक सत्र प्रारंभ होने के लगभग चार माह बाद पुस्तक की राशि उपलब्ध कराई गई। अब राशि मिली, तो बच्चों को किताबें नहीं मिल पा रही है।

बच्चों के खाते में सीधे भेज दी गई राशि

भागलपुर में कक्षा एक से आठ तक नामांकित छात्रों की संख्या चार लाख 76 हजार 50 है। कक्षा एक से पांच तक के छात्रों को 250 रुपये और कक्षा छह से आठ तक के छात्रों को 400 रुपये की दर से राशि उपलब्ध कराई गई।

Number of students enrolled from class one to eight in Bhagalpur is four lakh 76 thousand 50
भागलपुर में कक्षा एक से आठ तक नामांकित छात्रों की संख्या चार लाख 76 हजार 50

मेधा साफ्ट के माध्यम से बच्चों के खाते में सीधे राशि भेज दी गई। प्रथम चरण में 26 अप्रैल से 17 जून तक संकुल स्तर पुस्तक मेला का आयोजन करने के निर्देश दिए गए थे। राशि के अभाव में उस समय छात्रों ने पुस्तक खरीद में दिलचस्पी नहीं दिखाई।

पुस्तक पहुंचाने में दिलचस्पी नहीं ले रही हैं पब्लिश‍िंग कंपनियां

इसके बाद चार जुलाई से 23 जुलाई तक पुस्तक मेला का आयोजित करने के निर्देश दिए गए। अब पब्लिर्शस कंपनियां पुस्तक मेला आयोजित करने में दिलचस्पी नहीं दिखा रही हैं। इस कारण अगस्त महीने में राशि मिलने के बाद भी बच्चों को किताबें नहीं मिल पा रही है।

27 जुलाई को पब्लिशर्स कंपनियों को लिखे पत्र में बिहार स्टेट टेक्स्ट बुक पब्लिश‍िंग कारपोरेशन लिमिटेड के प्रबंध निदेशक मनोज कुमार ने भी कहा कि बच्चों तक पुस्तक पहुंचाने के लिए मुद्रकों का पांच समूह बनाया गया था।

Books did not reach school children, but the date of half yearly examination was released
स्कूली बच्चों तक किताबें नहीं पहुंची, लेकिन अर्ध वार्षिक परीक्षा की तिथि जारी कर दी गई

ब्लिशर्स कंपनियों की ओर से उपलब्ध कराए गए प्रतिवेदन के अनुसार बहुत ही कम मात्रा में पुस्तक मुद्रित कर बिक्री की गई। इधर, 23 अगस्त को जिला कार्यक्रम पदाधिकारी सर्व शिक्षा अभियान देवेंद्र नारायण पंडित ने 17 पब्लिशर्स कंपनियों को पत्र लिख कर भागलपुर जिला में संकुल स्तर पर पुस्तक मेला आयोजित करने का अनुरोध किया। इसके बाद भी पब्लिशर्स कंपनियां पुस्तक मेला आयोजित करने में दिलचस्पी नहीं ले रही हैं।

जारी हुई अर्ध वार्षिक परीक्षा की तिथि

जिला में अधिकांश स्कूली बच्चों तक किताबें नहीं पहुंची, लेकिन अर्ध वार्षिक परीक्षा की तिथि जारी कर दी गई। 12 से 18 अक्टूबर तक जिलों के सरकारी स्कूलों में कक्षा एक से आठ तक के छात्र-छात्राओं की अर्ध वार्षिक परीक्षा होगी। जिला प्रारंभिक माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष डा. शेखर गुप्ता ने कहा कि बिना बच्चों को किताबें उपलब्ध कराए बिना गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की बात बेईमानी है।

perfection ias bpsc toppers
प्रमोटेड कंटेंट

Share This Article