बिहार की बेटी सविता साइकिल से भारत घूमीं, 173 दिनों में 12,500 KM तय कर बेटी बचाने का दिया संदेश

Araria News
Bihars daughter Savita traveled to India by bicycle
बिहार की बेटी सविता साइकिल से भारत घूमीं, 173 दिनों में 12,500 KM तय कर बेटी बचाने का दिया संदेश

बिहार के छपरा की बेटी सविता महतो ने एक कीर्तिमान बनाया है। 173 दिनों में 29 राज्यों का साइकिल से भ्रमण कर उन्होंने बेटी बचाने का संदेश दिया है। यह यात्रा उन्होंने पिछले वर्ष की है। अब वह माउंट एवरेस्ट को 2022 में फतह करना चाहती है, लेकिन इसमें उन्हें आर्थिक परेशानी हो रही है। सविता ने कला संस्कृति मंत्री आलोक रंजन से मदद मांगी है। मंत्री ने मदद का भरोसा दिया है। पानापुर के चौहान महतो की पुत्री सविता ने जम्मू कश्मीर से यात्रा की शुरुआत की। इसके बाद दक्षिण केरल, तमिलनाडु पहुंची। फिर उत्तर पूर्वी राज्यों में गई। अंत में सिक्किम होते हुए 18 जुलाई 2017 को पटना पहुंची। रास्ते में सभी जगहों पर एक-एक दिन बिताया।

इस अवधि में उन्होंने 12 हजार 500 किलोमीटर से अधिक का सफर साइकिल पर तय किया। सविता ने बताया, ‘जिस रास्ते से गुजरती, वहां लोगों को बेटी बचाने और बेटी पढ़ाने का संदेश देती रहीं। हमारे कामों को देखकर लोग काफी कायल हुए और हमारा स्वागत भी किया। अभियान में ग्रुप कमांडर ब्रिग्रेडियर रणविजय सिंह से बड़ी सहायता मिली। उन्होंने आगे बढ़ने को प्रेरित किया।’

savita of chhapra traveled india by bicycle
बिहार की साइकिल गर्ल सविता

मंत्री कर चुके हैं सम्मानित

सविता ने मीडिया से खास बातचीत में बताया, साइकिल यात्रा के दौरान लोग यह जानकर आश्चर्य चकित हो जाते थे कि मैं बिहार से हूं। मुझे इस बात का गर्व है कि बिहार की हूं।’ बदा दें, उनकी इस उपलब्धि के लिए बिहार के कला संस्कृति एवं युवा विभाग से सम्मानित हो चुकी है।

सविता के पिता मछली बेच कर परिवार चलाते हैं

चौहान महतो और क्रांति देवी की पुत्री सविता अपने परिवार के साथ कोलकाता में रहती है। पिता तारकेश्वर में मछली बेच कर परिवार चलाते हैं, लेकिन सविता ने गरीबी के बीच रहकर भी बड़ा सपना देखा और उसे पूरा करने का साहस भी दिखाया। साइकिल यात्रा के दौरान स्कूल प्रबंधन भी उनकी मदद करता है। सविता हिमालय के संतोपथ पर्वत पर जमीन से साढ़े सात हजार मीटर ऊंचाई पर तिरंगा फहरा चुकी है।

Share This Article