बिहार में बहन के घर से छठ का प्रसाद देकर लौट रहा था युवक, हथियार के बल पर करा दिया पकड़ौआ विवाह

Araria News
young-man-got-married-forcefully-video-viral-bihar
बिहार में बहन के घर से छठ का प्रसाद देकर लौट रहा था युवक, हथियार के बल पर करा दिया पकड़ौआ विवाह

बिहार में एक बार फिर पकड़ौआ विवाह (जबरदस्ती शादी) का मामला सामने आया है। मामला बिहार के नालंदा जिले के मानपुर का है। धनुकी गांव निवासी नीतीश कुमार ने थाने में लिखित आवेदन देकर आरोप लगाया है, कि मानपुर थाना क्षेत्र के परोहा गांव के समीप ग्रामीणों ने उसे पकड़कर जबरदस्ती शादी करा दी। उसे रातभर बंधक बनाकर रखा गया और मारपीट भी की गई।

इधर युवक की शादी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। पीड़ित ने पुलिस से न्याय की गुहार लगाई है। इस मामले में मानपुर थानाध्यक्ष जितेंद्र कुमार ने कहा कि परोहा गांव निवासी संजय यादव और गन्नू यादव सहित तीन अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है। अभी तक किसी भी आरोपी की गिरफ्तार नहीं हो पाई है।

बहन के ससुराल से छठ का प्रसाद देकर लौट रहा था

पीड़ित युवक ने बताया कि, वो 11 नवंबर को छठ पूजा का प्रसाद लेकर अपनी बहन के ससुराल सरबहदी गया था। प्रसाद देकर घर लौटने के दौरान रास्ते में परोहा गांव के पास कुछ लोगों ने उसे पकड़ लिया। ग्रामीणों ने पिस्टल सटाकर पहले बंधक बनाया। गांव की लड़की से जबरदस्ती शादी करने की बात की। जब उसने शादी से मना किया तो उसके साथ मारपीट भी की गई। इसके बाद उसकी शादी करा दी गई। युवक की शादी का फोटो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

घटना के बाद युवक ने मामले को लेकर मानपुर थाने में शिकायत दर्ज कराई है। इस मामले में मानपुर थानाध्यक्ष जितेंद्र कुमार ने कहा कि- परोहा गांव निवासी संजय यादव और गन्नू यादव सहित तीन अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कर ली गई है। जांच चल रही है पीड़ित युवक खुद को नाबालिग बता रहा है। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

क्या होता है पकड़ौआ विवाह

पकड़ौआ विवाह में किसी गांव में दबंग लोगों आस-पास के गांव के पढ़े-लिखे या घर से संपन्न युवक का अपहरण कर लेते हैं। इसके बाद जबरदस्ती युवक की शादी किसी लड़की से करा दी जाती है। इसका विरोध किए जाने पर युवक के साथ मारपीट भी की जाती है। बिहार में पकड़ौआ विवाह 70-80 के दशक में जोरों पर हुआ करता था। लेकिन 21वीं शताब्दी के बाद इसमें काफी कमी आई। हालांकि, अब भी कभी-कभी ऐसे मामले सामने आ जाते हैं।

Share This Article