बिहार के दो भाइयों ने शुरू किया साड़ी के फॉल का कारोबार, महिलाओं को दे रहे हैं रोजगार

Araria News
Two brothers from Bihar started the business of sari fall
बिहार के दो भाइयों ने शुरू किया साड़ी के फॉल का कारोबार

वो कहते हैं न, काम जो भी हो वो छोटा नहीं होता है। यदि आपमें अपने काम के प्रति लगन और निष्ठां है तो आप मंजिल तक जरूर पहुंचेंगे। मुजफ्फरपुर शहर के सिकंदरपुर रोड के पास रहने वाले दो भाइयों ने ऐसा ही कुछ जज्बा दिखाया है।

शहर के सिकंदरपुर रोड के पास रहने वाले दो भाइयों एजाज और मुर्तजा की कहानी भी बिल्कुल ऐसी ही है। उन्होंने कभी साड़ी में फॉल लगाने, पिको करने और साड़ी में पॉलिश करने का छोटा सा काम शुरू किया था।

Work started with polish in saree
साड़ी में पॉलिश से शुरू किया था काम

50 से अधिक लोगों को दिया रोजगार

आज न वे केवल सिर्फ सिर्फ अपना परिवार बढ़िया से चला रहे हैं, बल्कि जैसे-जैसे काम बढ़ता गया, लोगों को अपने साथ जोड़ते चले गए। आज अपने इस कारोबार से उन्होंने 50 से अधिक लोगों को रोजगार दे रहे हैं।

Provided employment to more than 50 people
50 से अधिक लोगों को दिया रोजगार

साड़ी में पॉलिश करने का काम अनोखा है और यह हर किसी के द्वारा नहीं की जा सकती है। इसकी एक रोचक विधि है। मुर्तजा और एजाज इसी विधि के हुनरमंद हैं। भाइयों का कहना है कि वे दिन भर में तकरीबन 300 से 350 साड़ियों में पॉलिश करते हैं।

बड़े साड़ी दुकानदार उनके ग्राहक

मुजफ्फरपुर शहर के सभी बड़े साड़ी दुकानदार उनके ग्राहक हैं। हम सभी दुकानों से साड़ियां इकट्ठा कर पॉलिश एवं फॉल-पिको का काम करते हैं। उनके पास तकरीबन 50 जरूरतमंद महिलाएं काम करती हैं ओर अपना घर चलाती है।

इस काम के द्वारा एक महिला तकरीबन 10 हजार रुपये महीना तक कमा लेती है। उनके साथ काम करने वाली सभी जरूरतमंद महिलाएं हैं, जो हमारे साथ मिलकर इस काम को कर के अपना जीवन यापन करती हैं।

20 साल से चला रहे हैं कारोबार

मुर्तजा कहते हैं कि उन्हें इस काम को करते हुए 20 साल हो गए हैं। काम की फिनिशिंग बेहतरीन देते हैं, इसलिए पूरे मुजफ्फरपुर शहर के दुकानदार उनके ग्राहक हैं।

साड़ी पॉलिश करने के लिए पहले लकड़ी के एक पटरे पर साड़ी को दोनों तरफ से लगाते हैं और इसके बाद स्प्रे पॉलिश को साड़ी पर मारकर पटरे को लपेट दिया जाता है, फिर इसे धूप में सूखने के लिए रख दिया जाता है।

new batch for bpsc by perfection ias
प्रमोटेड कंटेंट

Share This Article