2022 में बिहार को मिलने जा रहा है सबसे बड़े जूट और नेचुरल फाइबर पार्क, रोजगार के अवसर में होगी वृद्धि

Araria News
Bihar is going to get the biggest jute and natural fiber park
Bihar is going to get the biggest jute and natural fiber park

2022 में बिहार को मिलने जा रहा है सबसे बड़े जूट और नेचुरल फाइबर पार्क, रोजगार के अवसर में होगी वृद्धि- साल 2021 अंततः समाप्त होने जा रहा है । यह साल बिहार के लिए मिला जुला रहा । कई नए उद्योग की स्थापना के साथ बेरोजगारी को ख़त्म करने का भी प्रयास किया गया जो आने वाले साल 2022 में भी जारी रहेगा ।

2022 में बिहार को मिलेगा सौगात

 बीते साल 2021 में बिहार के विकास के क्षेत्र में कई सौगात मिले हैं। 2021 में बिहार में कई परियोजनाओं तथा योजनाओं का शुभारंभ हुआ है। अब बात करते हैं आने वाले वर्ष का, आगामी समय में बिहार के विकास में अपना अहम योगदान देने वाला है। साल 2022 के आरंभ में बिहार के लोगों को बिहार के सबसे बड़े जूट और नेचुरल फाइबर पार्क की सौगात मिलेगी। जानकारी के अनुसार इस पार्क के शुरू होने के बाद बिहार में रोजगार के अवसर में वृद्धि होने की संभावनाएं जताई जा रही है।

नेचुरल फाइबर पार्क 2022 में शुरू हो सकता है

मिली जानकारी के अनुसार बिहार के पूर्णिया जिले को देश का सबसे बड़ा जूट और नेचुरल फाइबर पार्क की सौगात मिली थी। यह पार्क 2022 में शुरू हो सकता है। नए साल के में यह खबर मिलने से वे लोग जो बिहार में रोजगार की तलाश कर रहे हैं उनमे ख़ुशी की लहर है । इसके लिए भारत सरकार के सूक्ष्म, लघु एवं मध्य स्फूर्ति परियोजना के तहत देश के सबसे बड़े जूट और नेचुरल फाइबर क्लस्टर बनाने की तैयारी शुरू हो चुकी है।

लोगो को दिया जायगा प्रशिक्षण

इस पार्क के द्वारा घरों में इस्तेमाल में आने वाली तरह-तरह की चीजों का निर्माण जूट और प्राकृतिक रेशे के माध्यम से किया जायेगा। जिले में 1000 लघु उद्योग को इसके लिए तैयार किया जाएगा। वही इस पार्क के द्वारा लोगों को ट्रेनिंग दिया जाएगा जिसके बाद वह इस क्षेत्र में काम कर अपना रोजगार में वृद्धि कर सकेंगे।

रोजगार कि पूरी संभावना

natural fiber park
natural fiber park

ट्रेनिंग के बाद लोगो को भारत सरकार की ओर से उद्योग कार्ड भी दिया जाएगा एवं उनका का नाम एक्सपर्ट के रूप में सरकार की वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा। उम्मीद जताई जा रही है कि इस परियोजना के शुरू होने से पूरे सीमांचल के हजारों लोगों को लाभ मिलेगा। वहीं नए साल में इस परियोजना से बिहार में रोजगार बढ़ने की उम्मीद जग गई है।

Share This Article